आयकर गणना प्रपत्र : वित्तीय वर्ष 2019-20 एक्सेल में |

income-tax-calculation-excel

आयकर गणना प्रपत्र : वित्तीय वर्ष 2019-20 एक्सेल में भारत में वेतनभोगी व्यक्तियों के लिए वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए आयकर कैलकुलेटर इस पोस्ट के अंत में दिए लिंक से डाउनलोड कर सकते हैं|

फाइनेंशियल ईयर की शुरुआत में टैक्स प्लानिंग जल्दबाजी में साल के अंत में करने के बजाय हमेशा बेहतर होती है। इससे व्यक्ति को अग्रिम में अपने निवेश की योजना बनाने और अपने नियोक्ता को आवश्यक दस्तावेज जमा करने में मदद मिलेगी।

आयकर नियमों में बदलाव:

5 लाख रुपये से कम आय वाले व्यक्तियों के लिए धारा 87A के तहत छूट 2,500 रुपये से बदलकर 12,500 रुपये या आयकर का 100% (जो भी कम हो), (3.5 लाख रुपये से)|

वेतनभोगी और पेंशनरों के लिए मानक कटौती 40,000 रुपये से बढ़ाकर 50,000 रुपये की गई|

सुपर-रिच के लिए बढ़ा टैक्स: 2 से 5 करोड़ के बीच इनकम के लिए सरचार्ज 25% तक बढ़ा और 5 करोड़ से आगे की आय के लिए 37% |

किफायती घर की खरीद पर होम लोन पर 1.5 लाख रुपये का अतिरिक्त कर कटौती|

इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद पर ऑटो ऋण पर 1.5 लाख रुपये का अतिरिक्त कर कटौती|

सेकंड हाउस से नोशनल रेंटल इनकम पर कोई टैक्स नहीं|

दो हाउस प्रॉपर्टी में पुनर्निवेश पर कैपिटल गेन्स की छूट: टैक्स पेयर्स अब 1 हाउस की बिक्री पर दो घर खरीद सकते हैं अगर कैपिटल गेन 2 करोड़ रुपये से कम है। यह लाभ जीवनकाल में केवल एक बार लिया जा सकता है|

बैंक ब्याज आय पर टीडीएस की सीमा 10,000 रुपये से बढ़कर 40,000 रुपये हो गई|

आयकर गणना प्रपत्र क्यों भरा जाता है?

साधारण शब्दो में बताया जाये तो इसका मतलब होता है कि आप अपने नियोक्ता को इस फॉर्म द्वारा कहते हैं कि इस साल मेरा इतना टैक्स बनेगा और इतना आप मेरी सैलरी से काट लें।

आयकर रिटर्न क्या होता है?

इस फॉर्म द्वारा आप सरकार को बताते हैं कि इतनी मेरी आय है और इतना टैक्स मैंने भरा है और इतना टैक्स बनता है। अगर टैक्स जितना ज्यादा बनता हैं उससे ज्यादा भर दिया है तो ऊपर का अमाउंट आपके दिए गए अकाउंट में रिफंड होता है।

अगर जितना टैक्स बनना चाहिए उससे कम भरा है तो आपको ऑनलाइन या फिर बैंक द्वारा टैक्स भरना होता है।उम्मीद है आपको ये समझ आया होगा।

आयकर गणना प्रपत्र : वित्तीय वर्ष 2019-20 एक्सेल में यहाँ से डाउनलोड करें-

आयकर गणना प्रपत्र : वित्तीय वर्ष 2019-20 (MS Excel)
आयकर गणना प्रपत्र : वित्तीय वर्ष 2019-20 (Blank PDF Format)

sources: राजस्थान शिक्षक संघ (राष्ट्रीय)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *